महानगर...

सरपट भागती ,
न जाने क्या तलाशती ,
एक दुसरे को धकियाती ,
नोचती , खसोटती,
लुटती,पिटती,
शोर मचाती 
पान चबाती,
खांसती, खंखारती,
इधर उधर थूकती,
दीवारों को गन्दा करती,
धुंआ उड़ाती ,
गंद फैलाती,
सिर्फ खुद के लिए सोचती,
चौतरफा है एक भीड़,

कौन हैं ये लोग ?
कहाँ से आ रहे हैं ?
कहाँ को जायेंगे ?
किस की चाह में भाग रहें है ?
कब तक दौड़ते रहेंगे ?
क्या ऐसे बचेगा हमारा अस्तित्व..?

बहुत सारे  सवाल मेरे,
जहन को झिंझोड़ने लगते हैं ,
घबरा कर मैं आँखे बंद कर लेती हूँ,
फिर ख्याल झटक देती हूँ,
और चल पड़ती हूँ ,
आगे  निकलने की होड़ में
उसी भीड़ का एक हिस्सा बनने .....
................................................ममता





Comments

  1. सुंदर शब्दों से चित्रित आज का माहोल ... बधाई ... (Y) ऐसे ही लिखती रहिये ..

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर रचना की प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

जिंदगी और मौत ...मेरा नजरिया...

पहाड़ी औरत .............

अभिनंदन नव वर्ष ....